Motivational Biography of Mary Kom in Hindi

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

This is the motivational success story of Mary Kom in hindi

मेरी कोम का पुरा नाम मांगते चुंगनेजंग मेरी कोम है। मेरी कोम का जन्म 1 मार्च 1983 में कन्गथेइ, मणिपुरी, भारत में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। ये चार भाई बहनों में सबसे बड़ी थी, कम उम्र से ही मेरी बहुत मेहनती रही है, अपने माता पिता की मदद करने के लिए वे भी उनके साथ काम करती थी। साथ ही वे अपने भाई बहनों की देखभाल करती थी।

मेरी ने इन सब के बाद भी पढाई की और इसकी शुरुवात ‘लोकटक क्रिस्चियन मॉडल हाई स्कूल’ मेरी कोम का पुरा नाम मांगते चुंगनेजंग मेरी कोम है। मेरी कोम का जन्म 1 मार्च 1983 में कन्गथेइ, मणिपुरी, भारत में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। ये चार भाई बहनों में सबसे बड़ी थी, कम उम्र से ही मेरी बहुत मेहनती रही है, अपने माता पिता की मदद करने के लिए वे भी उनके साथ काम करती थी। साथ ही वे अपने भाई बहनों की देखभाल करती थी।

मेरी ने इन सब के बाद भी पढाई की और इसकी शुरुवात ‘लोकटक क्रिस्चियन मॉडल हाई स्कूल’ से की, जहाँ वे छठी कक्षा तक पढ़ी। इसके बाद संत ज़ेवियर कैथोलिक स्कूल चली गई, जहाँ से इन्होने कक्षा आठवीं की परीक्षा पास की। आगे की पढाई नवमी और दसवीं कक्षा के लिए वे आदिमजाति हाई स्कूल चली गई, किन्तु वे परीक्षा में पास नहीं हो पाई। स्कूल की पढाई मेरी ने बीच में ही छोड़ दी और आगे उन्होंने NIOS की परीक्षा दी। इसके बाद इन्होंने अपना ग्रेजुएशन चुराचांदपुर कॉलेज, इम्फाल से किया।मेरी को बचपन से ही एथलीट बनने का शौक रहा। स्कूल के समय में वे फुटबॉल जैसे में हिस्सा लेती थी। लेकिन मजाक की बात यह है कि उन्होंने बॉक्सिंग में कभी भाग नहीं लिया था। 


सन 1998 में बॉक्सर ‘डिंगको सिंह’ ने एशियन गेम्स में गोल्ड मैडल जीता, वे मणिपुर के थे।उनकी इस जीत से उनकी पूरी मातृभूमि झूम उठी थी। यहाँ मेरी ने बॉक्सिंग करते हुए डिंगको को देखा, और इसे अपना करियर बनाने की ठान ली। इसके बाद उनके सामने पहली चुनौती थी, अपने घर वालों को इसके लिए राजी करना। छोटी जगह के साधारण से ये लोग, बॉक्सिंग को पुरुषों का खेल समझते थे, और उन्हें लगता था इस तरह के गेम में बहुत ताकत मेहनत लगती है, जो इस कम उम्र की लड़की के लिए ठीक नहीं है।।

मेरी ने मन में ठान लिया था कि वे अपने लक्ष्य तक जरुर पहुंचेंगी, चाहे इसके लिए उन्हें कुछ भी क्यों न करना पड़े। मेरी ने अपने माँ बाप को बिना बताये इसके लिए ट्रेनिंग शुरू कर दी। एक बार इन्होने ‘खुमान लम्पक स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स’ में लड़कियों को लड़कों से बॉक्सिंग करते देखा, जिसे देख वे स्तब्ध रे गई। यहाँ से उनके मन में उनके सपने को लेकर विचार और परिपक्व हो गए।वे अपने गाँव से इम्फाल गई और मणिपुर राज्य के बॉक्सिंग कोच एम् नरजीत सिंह से मिली और उन्हें ट्रेनिंग देने के लिए निवेदन किया। वे इस खेल के प्रति बहुत भावुक थी, साथ वे एक जल्दी सिखने वाली विद्यार्थी थी। ट्रेनिंग सेंटर से जब सब चले जाते थे, तब भी वे देर रात तक प्रैक्टिस करती रहती थी।


बॉक्सिंग शुरू करने के बाद मेरी को पता था कि उनका परिवार उनके बॉक्सिंग में करियर बनाने के विचार को कभी नहीं मानेगा, जिस वजह से उन्होंने इस बात को अपने परिवार से छुपा कर रखा था। 1998 से 2000 तक वे अपने घर में बिना बताये इसकी ट्रेनिंग लेती रही। सन 2000 में जब मेरी ने ‘वीमेन बॉक्सिंग चैम्पियनशीप, मणिपुर’ में जीत हासिल की, और इन्हें बॉक्सर का अवार्ड मिला, तो वहां के हर एक समाचार पत्र में उनकी जीत की बात छपी, तब उनके परिवार को भी उनके बॉक्सर होने का पता चला।इस जीत के बाद उनके घर वालों ने भी उनकी इस जीत को सेलिब्रेट किया। इसके बाद मेरी ने पश्चिम बंगाल में आयोजित ‘वीमेन बॉक्सिंग चैम्पियनशीप’ में गोल्ड मैडल जीत, अपने राज्य का नाम ऊँचा किया।

Motivation Story in hindi with moral message

सीख : बच्चों इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कीसी भी काम में हार नहीं माननी चाहिए और हमारे लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मेहनत करनी चाहिए।


Motivational Story of Mary Kom in hindi

If you like Mary Kom and wish to know more about him then you can read his motivational story in Hindi here and know about his life story and his motivational biography in form of a story in Hindi. If you are inspired by the motivational story and biography of Mary Kom you can share that with your friends as well.

Mary Kom motivational story in Hindi for success

When you are struggling for success in life than reading some motivational stories about people like Mary Kom can surely boost your morale and you can feel far better in your life. These motivational stories can bring new inspiration in your life and can help you reach your goals with new energy.

Mary Kom motivational story in Hindi for students

If you are a student and wish to feel active and inspired daily then reading motivational stories about people like Mary Kom can help you feel motivated about your goals and studies and can help you make a big difference in your life. These motivational stories are also available in Hindi so that more people will be able to understand it easily.

Mary Kom motivational story in Hindi PDF

Motivational stories in Hindi pdf are available for download for the motivational story of Mary Kom. if you are inspired by the motivational story of Mary Kom then you can easily download that on your phone or on your PC in the form of a PDF and enjoy it anywhere.

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Related Quotes